Khari Khari News
News खेत-खलिहान हरियाणा

कपास व मूंग की फसलों में हुएं नुकसान की होगी विशेष गिरदावरी, किसानों को मिलेगा मुआवजा

पंचकूला।हरियाणा सरकार ने प्रदेश में सितंबर महीने में हुई अधिक बारिश के कारण कपास एवं मूंग की फसलों को हुएं नुकसान को आंकने के लिए विशेष गिरदावरी करवाने तथा उसकी रिपोर्ट 15 अक्टूबर तक भेजने के निर्देश जारी किए हैं ताकि किसानों को समय पर मुआवजा राशि दी जा सके।
राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि इस विशेष गिरदावरी के तहत उन क्षेत्रों की पहचान की जाएगी जहां कपास व मूंग की फसल में 25% या इससे ज्यादा नुकसान पहुंचा है। उन्होंने बताया कि मूंग की फसल की गिरदावरी पूरे हरियाणा में और कपास की गिरदावरी कुरुक्षेत्र, अंबाला, पंचकूला, यमुनानगर को छोड़कर शेष सभी जिलों में होगी।

विभाग के अनुसार कपास और मूंग की फसलों का आंकलन 25 से 33% ,33 से 50% ,50 से 75% और 75 से 100% की श्रेणी में किया जाएगा। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत कवर खराबा क्षेत्र को इस विशेष गिरदावरी में शामिल नहीं किया जाएगा।
उन्होंने बताया कि खराबा प्रविष्टियों का डेटाबेस तैयार करने के लिए एक सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन विकसित किया गया है ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि ऐसे मामलों को गलती से मुआवजा न मिले जहां किसानों ने फसल बीमा के लिए आवेदन किया हुआ है।

प्रवक्ता ने बताया कि इस सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन में लाभानुभोगियों की सूची के साथ उनका खसरा नम्बर लिखा जाना भी अनिवार्य होगा। डेटा प्रविष्टियों का कार्य पूरा होने के उपरांत समस्त गांव के डेटा का प्रिंट लेकर उसे कृषि विभाग के कृषि विकास अधिकारी या उप-निदेशक को भेजा जाएगा। इस डेटा के आधार पर कृषि विकास अधिकारी या उप-निदेशक उन किसानों के नाम सत्यापित करेगा और सूची से हटाएगा जो प्रधान मंत्री फसल बीाम योजना के तहत आते हैं। इसके अतिरिक्त, विशेष गिरदावरी की सूची को अंतिम रूप देने से पहले मेरी फसल- मेरा ब्योरा की प्रविष्टियां के साथ उसका मिलान कर उसकी दोबारा जांच की जाएगी।

 

Related posts

मिठाई की दुकान पर सीएम फ्लाइंग ने की रेड, मिल्क पाऊडर के सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे लैब

kharikharinews

राफेल विमान की दूसरी खेप पहुंचेगी भारत, फ्रांस से नॉन स्टॉप उड़ान भरकर भारत पहुंचेंगे राफेल विमान

kharikharinews

तीन साल से चल रहा था प्रेम- प्रसंग, प्रेमिका ने शादी से मना किया तो प्रेमी ने गोली मारकर की आत्महत्या

Mukshan Verma

Leave a Comment