Khari Khari News
India News punjab chunav punjab election खरी खरी विशेष देश-विदेश राजनीति

पंजाब की चुनावी जंग में 22 सवाल मांग रहे जवाब, पंजाब में पहली बार विधानसभा चुनाव में हो रहा चार कौणीय महासंग्राम

पंजाब की चुनावी जंग में 22 सवाल मांग रहे जवाब

 

पंजाब में पहली बार विधानसभा चुनाव में हो रहा चार कौणीय महासंग्राम

 

कुलदीप श्योराण
चंडीगढ़। पंजाब के चुनावी महासंग्राम में इस बार सबसे अलग माहौल नजर आ रहा है।
अकाली दल और बीजेपी की दोस्ती में तलाक, अमरिंदर सिंह की कांग्रेस से बगावत, चरणजीत सिंह चन्नी के जोरदार पैंतरे, नवजोत सिद्धू की उल्टा-पलटी वाली सियासत, अकाली दल और बीएसपी गठबंधन की नई जुगलबंदी, भाजपा और अमरेंद्र सिंह का नया याराना मिलकर पंजाब के चुनाव को बिल्कुल नई रंगत दे रहे हैं। सबसे बड़ी सियासी उठापटक के बीच में हो रहे इन चुनावों में 22 सवाल अपना जवाब मांग रहे हैं।

क्या कांग्रेस 2022 की चुनावी जंग जीत कर सत्ता की सरताज बनी रहेगी?

 

-क्या चरणजीत सिंह चन्नी कांग्रेस को सत्ता के “सरताज” बनाए रखेंगे??

 

-क्या चरणजीत सिंह चन्नी कांग्रेस को दलित वोट एकमुश्त “दिलवा” पाएंगे?

 

-क्या नवजोत सिंह सिद्धू कांग्रेस की “सरदारी” कायम रख पाएंगे?

 

-क्या नवजोत सिंह सिद्धू जट सिख वोटरों को कांग्रेस के “पाले” में ला पाएंगे?

 

-क्या नवजोत सिद्धू का सीएम बनने का “सपना” साकार होगा?

 

-क्या कांग्रेस अमरेंद्र सिंह की “बगावत” के बावजूद सत्ता पर काबिज रहेगी?

 

-क्या सुनील जाखड़, प्रताप सिंह बाजवा, मनीष तिवारी, भिंडर जैसे नेता “एकजुट” होकर कांग्रेस की जीत के लिए काम करेंगे?

 

-क्या अरविंद केजरीवाल पंजाब में आप को सत्ता के सिंहासन पर “बिठवा” पाएंगे?

-आम आदमी पार्टी चुनावी शादी में किसको “दूल्हा” बनाकर पेश करेगी?

 

-क्या आम आदमी पार्टी भगवंत मान की अगुवाई में पंजाब में पहली बार सरकार बनाने का “दांव” खेलेगी?

 

-क्या प्रकाश सिंह बादल अपने अंतिम चुनाव में बेटे सुखबीर बादल को सियासी “शिखर” पर पहुंचा पाएंगे?

-क्या सुखबीर बादल बसपा के साथ मिलकर सत्ता की “मजबूत” दावेदारी पेश कर पाएंगे?

 

– क्या सुखबीर बादल अकाली दल बसपा गठबंधन को कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के “मुकाबले” खड़े कर पाएंगे?

 

-क्या सुखबीर बादल कृषि कानूनों के कारण किसानों में उपजी “खिलाफत” को शांत करने में सफल रहेंगे?

 

-क्या सुखबीर बादल बसपा के साथ गठबंधन करके दलित वोटरों का “समर्थन” हासिल कर पाएंगे?

 

-क्या अमरेंद्र सिंह और भाजपा की दोस्ती “रंग” जमा पाएगी?

-क्या अमरिंदर सिंह हैवीवेट नेता होने के “रसूख” को बचाने में सफल रहेंगे?

 

-कांग्रेस से बाहर जाकर क्या अमरेंद्र सिंह सियासी “सफलता” हासिल कर पाएंगे?

 

-क्या अकाली दल के बगैर भाजपा पंजाब में अपने “पैर” जमा पाएगी?

 

-क्या भाजपा पीएम मोदी की यात्रा के “बवाल” के सहारे पंजाब में वोटों का ध्रुवीकरण अपने पक्ष में करा पाएगी?

 

-क्या सुखदेव सिंह ढींडसा बादल परिवार के बगैर बीजेपी और अमरेंद्र के साथ मिलकर अपना “रुतबा” बचा पाएंगे?

 

खरी खरी बात यह है कि पंजाब का चुनाव इस बार नया इतिहास रचने का काम करेगा।
यह चुनाव कैप्टन अमरिंदर सिंह, नवजोत सिंह सिद्धू, सुखबीर बादल, सुखदेव सिंह ढींडसा, चरणजीत सिंह चन्नी के सियासी कैरियर का “फैसला” करने जा रहा है।

 

पंजाब की अगली सरकार बनाने के लिए जनता का आशीर्वाद किस पार्टी को मिलेगा यह अभी साफ तौर पर नहीं कहा जा सकता।
बेहद “कांटे” की टक्कर में सत्ता का फैसला होगा और एक नेता को छोड़कर बाकी नेताओं को जोर का झटका सहन करने के लिए तैयार रहना होगा।
पंजाब के चुनावी महासंग्राम में उपरोक्त 22 सवाल “निर्णायक” फैक्टर साबित होंगे।

Related posts

The Classic ‘Jeans & A Nice Top’ Look Is Making A Comeback

kharikharinews

PM Kusum Yojna Scheme: फ्री सोलर पंप के लिए आवेदन शुरू, ऑनलाइन करें आवेदन

Mukshan Verma

हरियाणा में कोरोना संक्रमण के चलते हुक्के पर लगा पूरी तरह प्रतिबंध, मामला आने पर कार्यवाही के आदेश

kharikharinews

Leave a Comment