Khari Khari News
India punjab chunav punjab election देश-विदेश राजनीति

बेलगाम सिद्धू कांग्रेस के लिए साबित हो रहे भस्मासुर, साथी नेताओं के अलावा हाईकमान को भी दिखाया ठेंगा

बेलगाम सिद्धू कांग्रेस के लिए साबित हो रहे भस्मासुर

 

साथी नेताओं के अलावा हाईकमान को भी दिखाया ठेंगा

 

सबसे टकराव मोल लेकर चुनाव में कांग्रेस की संभावनाओं को लगा रहे पलीता

कुलदीप श्योराण
चंडीगढ़। पंजाब प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिद्धू कांग्रेस के लिए भस्मासुर साबित होते हुए नजर आ रहे हैं। सीएम घोषित नहीं करने से परेशान होकर सिद्धू उटांग-पटांग हरकतों और बयानों के जरिए आगामी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के जीत की संभावनाओं को पलीता लगाने का काम कर रहे हैं।

सिर्फ खुद का कर रहे प्रचार

 

नवजोत सिद्धू पंजाब में कांग्रेस को मजबूत करने के बजाए सिर्फ खुद की ब्रांडिंग करने पर ही ज्यादा फोकस रखते हैं।
वे अपनी छवि चमकाने के लिए पॉलिटिकल ड्रामेबाजी करने से नहीं चूक रहे हैं। सिद्धू को यह गलतफहमी हो गई है कि वे पंजाब में सबसे लोकप्रिय नेता हैं और उनके बदौलत ही कांग्रेस की सरकार पंजाब में बन पाएगी।

 

सीएम घोषित नहीं करने से नाराज

सिद्धू को इस बात की नाराजगी है कि पार्टी हाईकमान ने अभी तक आगामी विधानसभा चुनाव के लिए उनको सीएम प्रत्याशी घोषित नहीं किया है। वे बार-बार जनसभाओं में कहते हैं कि दूल्हे के बगैर बारात नहीं जंचती। वे खुद को सीएम प्रत्याशी घोषित करने का दबाव डाल रहे हैं। हाईकमान द्वारा कोई रिस्पांस नहीं दिए जाने पर 2 दिन पहले उन्होंने कह दिया कि सीएम हाईकमान नहीं प्रदेश की जनता तय करेगी।

 

सीएम चन्नी की कर रहे बेकद्री

नवजोत सिद्धू अपनी ही पार्टी के सीएम चरणजीत सिंह चन्नी को भी नहीं बख्श रहे हैं और मौका मिलते ही उनको कटघरे में खड़ा करने का काम कर रहे हैं।

 

नवजोत सिद्धू ने कल प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि सीएम चन्नी ने केबल के ₹100 दाम करने का वादा किया था लेकिन वह ऐसा नहीं कर पाए।
इससे पहले मजीठिया की गिरफ्तारी को लेकर भी सिद्धू ने सवालिया निशान लगाया था।

चेन्नी के कामकाज पर उंगली उठाकर सिद्धु कहीं ना कहीं कांग्रेस पार्टी का बड़ा नुकसान कर रहे हैं। जब पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष ही सीएम के कामकाज को खराब बताएंगे तो ऐसे में दूसरी पार्टियों को कांग्रेस पर हमला करने का मौका बार-बार मिल रहा है।

कांग्रेस हाईकमान को दिखाया ठेंगा

 

नवजोत सिद्धू अपनी हदों को पार कर रहे हैं और इसलिए उन्होंने कल प्रेस कॉन्फ्रेंस करके पार्टी हाईकमान को ठेंगा दिखाने का काम कर दिया।
आम तौर पर चुनाव पर कांग्रेस हाईकमान के निर्देशन में ही चुनाव के लिए घोषणा पत्र जारी करने का काम किया जाता है लेकिन नवजोत सिद्धू ने पार्टी के घोषणा पत्र का इंतजार किए बगैर ही अपना पंजाब मॉडल पेश कर दिया।

नवजोत सिद्धू ने अपना व्यक्तिगत मॉडल पेश करते हुए कांग्रेस हाईकमान को ही ठेंगा दिखाने का काम कर दिया। नवजोत सिद्धू ने यह दिखा दिया कि वह कांग्रेस हाईकमान की गाइडेंस पर चलने की बजाय अपनी मनमर्जी से ही काम करना ज्यादा पसंद करते हैं।

साथी नेताओं की अनदेखी

सिद्धू को प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाते समय कांग्रेस हाईकमान को यह उम्मीद की थी कि वह सभी साथी नेताओं को साथ लेकर चलने का काम करेंगे लेकिन ऐसा करने की बजाय सिद्धु “अकेला चलो” की पॉलिसी पर काम कर रहे हैं।

सीएम चन्नी के अलावा वे दूसरे नेताओं के साथ बेहद कम दिखे हैं‌ सुनील जाखड़, मनीष तिवारी, रवनीत बिट्टू, भिंडर और प्रताप सिंह बाजवा जैसे बड़े नेताओं के साथ सिद्धू की पटरी अभी तक नहीं बैठी है जिसके चलते पार्टी में एकजुटता का माहौल नहीं बन पाया है।

 

खरी खरी बात यह है कि नवजोत सिद्धू से किए गए वादे को निभाने के लिए ही कांग्रेस हाईकमान ने पूर्व सीएम अमरिंदर सिंह को कुर्सी से हटाने का काम किया था।

 

कांग्रेस हाईकमान को यह लगता था कि नवजोत सिद्धू की आक्रामक शैली के जरिए वह न केवल कैप्टन से छुटकारा पा लेगी बल्कि इसके साथ-साथ दूसरी पार्टियों की रणनीति को ध्वस्त करते हुए कांग्रेस सत्ता पर काबिज रहेगी लेकिन नवजोत सिद्धू ने अपने कार्यकलापों और बड़बोलेपन के कारण पार्टी को बड़ी परेशानी में डाल दिया है।

नवजोत सिद्धू हर दूसरे दिन कोई न कोई ऐसा बयान दे देते हैं जिसके चलते कांग्रेस को सफाई देनी पड़ जाती है और जनता में सरकार और कांग्रेस दोनों की भारी किरकिरी होती है।
नवजोत सिद्धू के कार्यकलाप और वर्किंग कांग्रेस को सत्ता की सिहासन पर बनाए रखने की बजाय उसे सत्ता से दूर हटाने के हालात पैदा रही है।

नवजोत सिद्दू ने पार्टी के चुनावी माहौल को खराब करने का काम किया है जिसके चलते वे कांग्रेस के लिए मददगार साबित होने की बजाय भस्मासुर साबित होते हुए लग रहे हैं।

Related posts

इस दिवाली अपनी बेटी को दें इस सरकारी योजना का गिफ्ट, भविष्य होगा उज्जवल

Mukshan Verma

दर्दनाक: बालकनी में खेल रहे जुड़वा भाई 25 वीं मंजिल से गिरे, दोनों की मौत

Mukshan Verma

Business Idea: केवल 5 हजार रुपए में शुरू करें लाखों की कमाई वाला कारोबार, सरकार भी करेंगी मदद, चेक करें डिटेल्स

Mukshan Verma

Leave a Comment