Khari Khari News
राजनीति हरियाणा

किसानों पर लाठीचार्ज को लेकर ओपी धनखड़ का बड़ा बयान, कही ये बात

किसानों पर हुए लाठीचार्ज पर ओमप्रकाश धनखड़ का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि लाठीचार्ज किन परिस्थितियों में किया गया है, मुख्यमंत्री से निवेदन किया है कि इसकी जांच करवाई जाए।

उन्होंने कहा कि लाठी चार्ज नहीं होना चाहिए था लेकिन किसानों को भी लोकतंत्र के दायरे में रहकर प्रदर्शन करना चाहिए किसी पार्टी के कार्यक्रम को प्रभावित नहीं करना चाहिए।

jam in sonipat 28 august 2021

हरियाणा में तीन कृषि कानूनों के विरोध में प्रदर्शन कर रहे किसानों पर आज पुलिस ने बसताड़ा टोल प्लाला पर लाठीचार्ज कर दिया है। किसान करनाल में मुख्यमंत्री मनोहर लाल के कार्यक्रम का विरोध करने जुटे थे। अब प्रदेश के कई हिस्सों में हालात तनावपूर्ण हो गए हैं और कई जगहों पर जाम लगा दिये गए हैं।

Read This – हरियाणा में डीसी रेट नौकरियां-  Click Here 

Road Jam in Haryana 28 August 2021

ताजा जानकारी के मुताबिक अंबाला अमृतसर नेशनल हाइवे पर जाम लगा दिया है, जिससे वाहनों की लंबी लाइनें लग गई है। इधर दिल्ली डबवाली नेशनल हाइवे पर कई जगहों पर जाम लगा दिया है। पानीपत रोहतक रोड पर किसानों ने जाम लगा दिया है।

Road Jam in Haryana 28 August 2021 3

जींद करनाल हाईवे पर अलेवा के पास किसानों ने जाम लगा दिया है। इधर भिवानी के कितलाना टोल प्लाजा पर जाम लगा दिया है। कुरुक्षेत्र के शाहाबाद में नेशनल हाइवे पर किसानों ने जाम लगा दिया है।

Read This – हरियाणा में डीसी रेट नौकरियां-  Click Here 

करनाल में प्रशासन द्वारा भयंकर लाठी चार्ज किया गया सभी किसान साथियों ने अनुरोध है बच्चे से लेकर बुजुर्ग तक सभी सड़कों पर उतर आएँ अपने नज़दीक लगते टोल प्लाज़ा और सभी रोड़ जाम कर दें…बोले गुरनाम सिंह चढुनी

Road Jam in Haryana 28 August 2021 333

फ़तेहाबाद में नेशनल हाइवे-9 बायपास पर सैंकड़ो किसानों ने लगाया जाम, करनाल में हुए लाठीचार्ज का कर रहे है विरोध, सड़क पर ट्रेक्टर और पानी के टैंकर लगाकर किया जाम, सरकार के खिलाफ नारेबाजी जारी।

करनाल में किसानों पर हुआ लाठीचार्ज न सिर्फ अलोकतांत्रिक है बल्कि अमानवीय भी है। हम इसकी निंदा करते हैं। लोकतंत्र में सभी को अपना विरोध दर्ज करने का संवैधानिक हक है। लाठी-गोली से सरकार नहीं चला करती, लोगों का दिल जीतकर सरकार चलती है।…….Ch. Bhupender Singh Hooda

Priyanka Gandhi – किसान मेहनत करके खेतों में लहलहाती हुई फसल देते हैं। भाजपा सरकार अपना हक मांगने पर उन्हें लाठी से लहूलुहान करती है। किसानों पर पड़ी एक-एक लाठी भाजपा सरकार के ताबूत में कील का काम करेगी।

 

 

Loading tweet…

रणदीप सिंह सुरजेवाला ट्वीट का ट्वीट

खट्टर साहेब,

आज करनाल में हर हरयाणवी की आत्मा पर लाठी बरसाई है।

धरती के भगवान किसान को लहूलुहान करने वाली पापी भाजपाई सत्ता का दमन दानवों जैसा है ।

सड़कों पर बहते-किसानों के शरीर से रिसते खून को आने वाली तमाम नस्लें याद रखेगीं।

याचना नहीं, अब रण होगा,
जीवन-जय या मरण होगा।

जानकारी के मुताबिक करनाल में घरौंडा के पास बसताड़ा टोल प्लाजा पर पुलिस ने किसानों पर लाठियां भांजी। क्योंकि किसानों ने भाजपा नेताओं को रोकने की योजना बनाते हुए टोल की दो-दो क्रॉसिंग छोड़कर बाकी को बंद कर दिया था।

बताया जा रहा है कि पुलिस ने किसानों को समझाने की कोशिश की लेकिन वे नहीं माने, जिसके बाद ये हालात बने। लाठीचार्ज में कई किसानों के सिर फूटे और खून बहा। वहीं पुलिस की कार्रवाई से बचने के लिए किसान खेतों में भाग गए।

Read This – हरियाणा में डीसी रेट नौकरियां-  Click Here 

किसानों पर लाठीचार्ज करना बेहद निंदनीय और कायरतापूर्ण भरा कदम: अभय सिंह चौटाला

किसान हमारे अन्नदाता हैं न कि देश के दुश्मन, लाठीचार्ज की घटना की जितनी भत्र्सना की जाए उतनी कम

किसानों पर किए गए लाठीचार्ज ने तानाशाही सोच वाले अंग्रेजों के शासन की याद ताजा कर दी है

धारा 144 की आड़ में भाजपा सरकार ने क्रूरता की सारी हदें की पार

आह्वान किया – प्रदेश के सभी राजनीतिक दल अपनी दलगत राजनीति से ऊपर उठ कर किसानों का समर्थन करें और किसानों के पक्ष में एकजुट होकर खड़े हों

चंडीगढ़,  28 अगस्त: इंडियन नेशनल लोकदल के प्रधान महासचिव अभय सिंह चौटाला ने करनाल के बसताड़ा टोल पर किसानों पर किए लाठीचार्ज की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए कहा कि किसान हमारे अन्नदाता हैं न कि देश के दुश्मन। किसान शांतिपूर्वक ढंग से अपनी मांगों को लेकर टोल पर प्रदर्शन कर रहे थे, ऐसे में उन पर भाजपा की खट्टर सरकार द्वारा लाठीचार्ज करना बेहद निंदनीय और कायरता पूर्ण भरा कदम है। लाठीचार्ज की घटना की जितनी भतर्सना की जाए उतनी कम है। धारा 144 की आड़ में भाजपा सरकार ने क्रूरता की सारी हदें पार कर दी हैं। इस कुकत्र्य के लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को किसानों और प्रदेश की जनता से माफी मांगनी चाहिए।

Abhay Chautala

किसानों पर हुए लाठीचार्ज में 70 साल के बुजुर्गांे को भी नहीं छोड़ा गया और निर्दयता से खेतों में भगा-भगा कर पीटा गया। निर्दोष किसानों के सिर फोड़े गए, उनकी टांगे, बांहे, और नाक की हड्डी तक तोड़ दी गई जिस कारण से किसान बुरी तरह से जख्मी हुए हैं। खट्टर की गूंगी-बहरी और तानाशाह सरकार आज हरियाणा प्रदेश में भाई से भाई को लड़वा रही है।

उन्होंने कहा कि आज ही नवींकरण के बाद जलियांवाला बाग खुला है जहां अंग्रेज शासकों ने क्रूरता की सभी हदों को पार करने वाले जघन्य हत्याकांड को अंजाम दिया था और आज ही खट्टर सरकार ने किसानों पर लाठीचार्ज कर उस खौफनाक मंजर को दोहरा दिया है। किसानों पर किए गए लाठीचार्ज ने तानाशाही सोच वाले अंग्रेजों के शासन की याद ताजा कर दी हैं।

Read This – हरियाणा में डीसी रेट नौकरियां-  Click Here 

अभय सिंह चौटाला ने किसानों द्वारा काले कृषि कानूनों को रद्द करने की मांगों को लेकर किए जा रहे प्रदर्शन को जायज बताते हुए कहा कि देश का संविधान भारत के प्रत्येक नागरिक को अपनी मांगों को लेकर शांतिपूर्वक प्रदर्शन करने की इजाजत देता है। उन्होंने प्रदेश के सभी राजनीतिक दलों से आह्वान किया कि सभी दलगत राजनीति से ऊपर उठ कर किसानों का समर्थन करें और किसानों के पक्ष में एकजुट होकर खड़े हों।

ksina lathicharge

किसानों पर लाठीचार्ज से भाकियू के प्रदेशाध्यक्ष गुरनाम सिंह चढ़ूनी भड़क गए हैं। उन्होंने सोशल मीडिया के माध्यम से कहा कि पुलिस ने करनाल में किसानों का प्रवेश बंद कर दिया। बसताड़ा टोल पर किसानों पर लाठीचार्ज करके उन्हें घायल कर दिया है, जो सरासर गलत है। मेरी किसानों से अपील है कि लाठीचार्ज के विरोध में वे जहां-जहां भी संभव हो सके सड़कों पर जाम लगा दो। आगे के आदेश तक जाम रखो। टोल पर भी जाम लगाया जाना चाहिए।

वहीं चढ़ूनी के आह्वान पर हिसार-दिल्ली हाईवे पर किसानों ने रामायण टोल जाम कर दिया। इससे हाईवे पर वाहनों की लंबी कतारें लग गई हैं। पुलिस ने वाहनों को खरड़ व रामायण की तरफ डाइवर्ट करना शुरू किया है। करनाल में जींद चौक, बसताड़ा टोल, निसिंग व जलमाना गांव में जाम लगा दिया गया है। रोहतक में मकड़ौली टोल पर किसानों ने जाम लगाया। नरवाना में बदोवाल टोल प्लाजा भी किसानों ने जाम कर दिया है।

bjp meeting karnal

आपको बता दें कि करनाल शहर में भाजपा की संगठनात्मक बैठक थी, लेकिन करनाल पुलिस और प्रशासन ने शहर में एंट्री के सभी प्वॉइंट बंद कर रखे हैं। इसलिए किसान शहर के अंदर नहीं घुस पाए। किसानों ने शहर में कूच करना चाहा, लेकिन पुलिस ने उन्हें घुसने ही नहीं करने दिया। इसके बाद किसानों ने नेताओं को वहीं पर रोकने की तैयार करते हुए टोल की दो-दो क्रॉसिंग छोड़कर बाकी को बंद कर दिया।

 

Read This – हरियाणा में डीसी रेट नौकरियां-  Click Here 

Related posts

हरियाणा के इन जिलों में अगले तीन घंटे में होगी झमाझम बारिश, देखें अलर्ट

kharikharinews

जींद में एंबुलेंस ड्राईवर के पदों पर निकली भर्ती, 10 वीं पास जल्द करें आवेदन

Mukshan Verma

भरोसे पर लड़ा जा रहा है ऐलनाबाद उपचुनाव, किसकी नैया पार लगाएंगे वोटर, देखें यें खास रिपोर्ट

Mukshan Verma

Leave a Comment