Khari Khari News
News

करनाल में चप्पे-चप्पे पर पुलिस, पांच जिलों में इंटरनेट सेवा बंद, दिल्ली चंडीगढ़ रुट पर सफर करने वाले भी जान लें वैकल्पिक रास्ते

 

हरियाणा के करनाल में आज किसानों की तरफ से महापंचायत बुलाई गई है जिसमें किसान संगठनों के काफी संख्या में पहुंचने की उम्मीद है। किसानों की इस महापंचायत को लेकर प्रशासन ने भी सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम कर लिये हैं और 40 टुकड़ियों की मोर्चा संभाला है। वहीं करनाल में चप्पे चप्पे पर पुलिस बल तैनात किया गया है।

हरियाणा पुलिस के प्रवक्ता ने प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए करनाल में कानून-व्यवस्था की स्थिति के संबंध में स्पष्ट किया है कि दिल्ली और अंबाला के बीच एनएच-44 पर नियोजित रूट डायवर्जन को अब तक लागू नहीं किया गया है। जरूरत पड़ने पर इन रूट डायवर्जन को 07-सितंबर-2021 को सुबह 9 बजे के आसपास लागू किया जाएगा। इससे पहले यातायात सामान्य रूप से चलेगा।

हरियाणा पुलिस द्वारा 7 सितंबर को विभिन्न किसान संगठनों द्वारा ‘करनाल मिनी सचिवालय का घेराव‘ के आह्वान को देखते हुए सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए गए हैं।

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (कानून एवं व्यवस्था) नवदीप सिंह विर्क ने आज इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि पुलिस द्वारा सुरक्षा के लिए की गई व्यवस्थाओं का प्राथमिक उद्देश्य प्रदेश सहित विशेष रूप से करनाल में शांति व्यवस्था बनाए रखना, किसी भी तरह की हिंसा को रोकना, यातायात व सार्वजनिक परिवहन प्रणाली को सुचारू संचालन तथा सार्वजनिक संपत्ति की सुरक्षा सुनिश्चित करना है।

आईजीपी करनाल रेंज और सभी जिला पुलिस अधीक्षकों (करनाल रेंज) को करनाल और आसपास के जिलों में कानून-व्यवस्था और शांति बनाए रखने के लिए आवश्यक निवारक और एहतियाती उपाय करने के निर्देश दिये गए हैं। उन्होंने कहा कि किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना और नागरिकों की सुरक्षा के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए जाएंगे।

उन्होंने कहा कि मुख्य राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 44 (अंबाला-दिल्ली) पर करनाल जिले में कुछ यातायात बाधित हो सकता है। इसलिए, एनएच-44 का उपयोग करने वाले नागरिकों को सलाह दी जाती है कि 7 सितंबर को करनाल शहर की तरफ यात्रा से बचें या अपने गंतव्य तक जाने के लिए वैकल्पिक मार्गों का उपयोग करें। सभी नागरिकों को इन व्यवस्थाओं के बारे में अग्रिम रूप से सूचित किया जा रहा है ताकि किसी भी असुविधा से बचने के लिए वे स्थिति अनुसार अपनी यात्रा को संशोधित कर सकें।

रूट डायवर्ट – दिल्ली से चंडीगढ
दिल्ली की ओर से आने वाले वाहनों को पैप्सी पुल (पानीपत) से होते हुए मुनक से असंध व मूनक से गगसीना, घोघड़ीपुर से होते हुए करनाल के हांसी चैंक, बाईपास पश्चिमी यमुना नहर से होते हुए कर्ण लेक जीटी रोड़ 44 से होते हुए चंडीगढ़ की ओर निकाला जाएगा। इसके अतिरिक्त हल्के वाहनों को मधुबन, दाहा, बजीदा, घोघड़ीपुर से होते हुए हांसी चैंक, बाईपास यमुना नहर कर्ण लेक जीटी रोड़ 44 से होते हुए चंडीगढ़ की ओर निकाला जाएगा।

रूट डायवर्ट – चंडीगढ़ से दिल्ली
7 सितम्बर को चंडीगढ़ की ओर से जाने वाले वाहनों को पीपली चैंक (कुरूक्षेत्र) से लाडवा, इंद्री, ब्याना, नेवल, कुंजपुरा से होते हुए नंगला मेघा, मेरठ रोड़ से होते हुए अमृतपुर खुर्द, कैरवाली तथा घरौंडा से जीटी रोड़ 44 से होते हुए दिल्ली की ओर निकाला जाएगा। इसके अतिरिक्त हल्के वाहनों को रम्बा कट तरावड़ी से रम्बा चैंक इंद्री रोड़ से होते हुए संगोहा, घीड़, बड़ागांव, नेवल, कुंजपुरा से हेते हुए नंगला मेघा, मेरठ रोड़ से होते हुए अमृतपनुर खुर्द, कैरवाली तथा घरौंडा से जीटी रोड़-44 से होते हुए दिल्ली की ओर निकाला जाएगा।

हरियाणा सरकार ने करनाल जिला में किसान महापंचायत के आह्वान को देखते हुए सुरक्षा एवं कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए 7 सितंबर को रात 23.59 बजे तक करनाल, कैथल, कुरुक्षेत्र, पानीपत और जींद में इंटरनेट सेवाएं निलंबित करने के निर्देश दिए हैं।

उन्होंने बताया कि करनाल जिला में सुरक्षा एवं कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए हरियाणा के गृह विभाग के सचिव ने उक्त हालातों के मद्देनजर दूरसंचार सेवाओं के अस्थायी निलंबन (सार्वजनिक आपातकाल या सार्वजनिक सुरक्षा) नियम, 2017 के नियम-2 के आधार पर प्रदान की गई शक्तियों का प्रयोग करते हुए मोबाइल इंटरनेट सेवाओं (2जी/3जी/4जी/सीडीएमए/जीपीआरएस), ज्यादा मात्रा में एसएमएस सहित सभी एसएमएस सेवाएं (बैंकिंग और मोबाइल रिचार्ज को छोड़कर) और सभी डोंगल सेवाएं आदि (वॉयस कॉल को छोड़कर) को निलंबित करने का आदेश दिया है। यह आदेश आज दोपहर 12.30 बजे से कल 7 सितंबर को रात 23.59 बजे तक लागू रहेंगे।

करनाल में जिला सचिवालय के घेराव को लेकर किसानों के ऐलान के बाद पुलिस चप्पे चप्पे पर तैनात है, ड्रोन से लेकर वीडियो ग्राफी तक सब की जाएगी। करनाल के जिला सचिवालय परिसर में BSF पर अन्य फ़ोर्स को दिशा निर्देश दिए गए। करनाल में अलग अलग ज़िलों से पुलिस बल के अलावा रेपीडिक्शन फ़ोर्स की 40 टुकड़ियां तैनात की जाएगी। वहीं अलग अलग ज़िलों के SP और DSP तैनात रहेंगे। किसानों ने कहा है कि वो हर हाल में शांतिपूर्ण तरीके से बेरिकेट्स को तोड़ते हुए जिला सचिवालय की तरफ रुख करेंगे। पुलिस बल करनाल में हर जगह तैनात रहेगा।

संयुक्त किसान मोर्चा ने एक बार फिर यह स्पष्ट किया है कि 7 सितंबर को सुबह 10 बजे करनाल की अनाज मंडी में किसानों की पंचायत पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार होगी। आज दिनभर की गतिविधियों का जायजा लेने के बाद मोर्चे ने अफसोस प्रकट किया की हरियाणा सरकार ने शहीद सुशील काजल और अन्य घायल किसानों को मुआवजा देने की बजाय उन्हें अपराधी ठहराने की कोशिश की है।

किसानों के सर फोड़ने का हुक्म देने वाले अफसर के खिलाफ कार्यवाही करने की बजाय सरकार ने उन्हें इनाम दिया है। इसलिए इसके विरोध में होने वाली पंचायत आयोजित की जाएगी संयुक्त किसान मोर्चा ने सभी किसानों को आह्वान किया है कि वह सरकारी दमन का विरोध करने के लिए अधिक से अधिक संख्या में आज 10 बजे अनाज मंडी करनाल पहुंचे।

मोर्चे ने सभी किसानों से हर हालत में शांति बनाए रखने की अपील की है। किसान आंदोलन से बौखलाई हरियाणा सरकार के पास अब एक ही हथकंडा बचा है कि वह किसी तरह किसान आंदोलन में हिंसा करवा कर उसे बदनाम करें। इसलिए किसानों को विशेष रूप से सजग रहना होगा कि वह सरकार और उसके एजेंटों को ऐसी कोई हरकत करने का कोई मौका ना दें, किसी तरह की हिंसा की गुंजाइश न होने दें।

समन्वय समिति, संयुक्त किसान मोर्चा
बी एस राजेवाल, दर्शन पाल, हन्नान मौला, जोगिंदर सिंह उग्राहन, जगजीत सिंह दल्लेवाल, गुरनाम सिंह चढूनी, योगेंद्र यादव, युद्धवीर सिंह, शिव कुमार शर्मा “कक्काजी”

 

Related posts

हरियाणा में COVID- 19 के मरीजों की ‘होम आइसोलेशन केयर’ को मिलेगी मजबूती, स्वास्थ्य विभाग ने जारी किए नए दिशा-निर्देश

kharikharinews

हरियाणा के सीएम मनोहर लाल की तबीयत बिगड़ी, डॉक्टरों की टीम पहुंची

kharikharinews

पीड़ितों ने खोली HSSC की पोल |

kharikharinews

Leave a Comment