Khari Khari News
News

हरियाणा में युवाओं को बड़ा झटका, जेबीटी शिक्षण संस्थानों को बंद करने का फैसला

 

हरियाणा में सरकार ने जेबीटी करने की चाह में बैठे युवाओं को बड़ा झटका दिया है। सरकार ने सरकारी और निजी संस्थानों से फिलहाल जेबीटी कोर्स को बंद कर दिया है। प्रदेश के सरकारी जेबीटी कॉलेजों को फिलहाल बंद रखा जाएगा।

इसी कड़ी में सरकारी जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थानों (डाइट) के बाद अब निजी कालेजों में भी डिप्लोमा इन एलिमेंट्री एजुकेशन (डीएलएड) कोर्स को बंद करने का सैद्धांतिक निर्णय लिया गया है।

हरियाणा में इस कोर्स को जेबीटी के नाम से जाना जाता है। प्रदेश में 342 निजी कालेजों में यह कोर्स कराया जाता है। इसके अलावा 22 डाइट में यह कोर्स कराया जा रहा था, जिसे पहले ही बंद किया जा चुका है।

सभी निजी कालेजों को नए सत्र में दाखिले नहीं करने का निर्देश दिया गया है। प्राइवेट कालेजों में इस कोर्स की 21 हजार सीटें हैं। डीएलएड कोर्स बंद करने के निर्णय से निजी कालेजों में लगे 3456 शिक्षकों तथा करीब 1800 गैर-शिक्षक स्टाफ को अपने भविष्य पर खतरा मंडराता दिख रहा है।

हरियाणा में आखिरी बार जेबीटी (जूनियर बेसिक ट्रेंड) शिक्षकों की भर्ती वर्ष 2012 में करीब 9870 पदों पर हुई थी। शिक्षा विभाग पहले ही प्राथमिक शिक्षकों को सरप्लस बता रहा है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल भी विधानसभा में कह चुके हैं कि नई शिक्षा नीति में परंपरागत प्राथमिक शिक्षकों की जरूरत नहीं है।

वहीं, डीएलएड कोर्स को बंद करने के फैसले से प्राइवेट कालेज संचालक नाराज हैं। उनका तर्क है कि डीएलएड से लेकर पीएचडी और आइटीआइ सहित इंजीनियरिंग तक सभी कोर्सों के डिग्री व डिप्लोमा होल्डर्स की संख्या सरप्लस है। क्या इन सभी कोर्सों को बंद कर दिया जाए। जेबीटी बंद करने से प्रदेश के युवाओं को इस कोर्स के लिए दूसरे प्रांतों का रुख करना पड़ेगा।

Related posts

हरियाणा सरकार का बड़ा फैसला, रजिस्ट्री होने के साथ म्युटेशन भी उसी दिन दर्ज होगी

kharikharinews

विधानसभा में पास हुआ निजी क्षेत्र में 75 प्रतिशत नौकरियां देने का बिल, प्रदेश के युवाओं के लिए ऐतिहासिक दिन- दुष्यंत चौटाला

kharikharinews

व्यापारी को कार में जिंदा जलाने के मामले में बड़ा खुलासा, आरोपी व्यापारी ने खुद रची थी 11 लाख की लूट की साजिश

kharikharinews

Leave a Comment