Khari Khari News
News हरियाणा

हरियाणा में अब घर बनाना होगा महंगा, इस वजह से आसमान छू रहे हैं ईंटों के दाम

चंडीगढ़।हरियाणा में अब सपनों का आशियाना बनाना महंगा होने वाला है . बता दें कि कोयलें की बढ़ती कीमतों की वजह से ईंटों के दाम आसमान छू रहे हैं. दरअसल यूएसए से आने वाला कोयला पहले 9 हजार रुपए प्रति टन मिलता था ,जो अब 22 हजार रुपए प्रति टन मिल रहा है. कोयलें के रेट में हुई वृद्धि का सीधा असर ईंटों की कीमतों पर पड़ रहा है.
ईट की कीमत अलग-2 क्वालिटी के हिसाब से तय होती है . अब से दो महीने पहले जहां एक नंबर क्वालिटी वाली ईंट की कीमत 4800 रुपए प्रति हजार थी , वहीं कीमत अब 5300 रुपए प्रति हजार हों गई है. दो नंबर क्वालिटी वाली ईंट की बात करें तो इसकी कीमत 3700 रुपए से बढ़कर 4200 रुपए प्रति हजार हों गई है. वहीं तीन नंबर क्वालिटी की ईंट पहले 2600 रुपए प्रति हजार थी जो अब 3100 रुपए प्रति हजार हों गई है.
जीएसटी से पड़ी दोहरी मार
भट्ठा मालिकों ने बताया कि यूएसए से आने वाले कोयलें की गुणवत्ता भारत में मिलने वाले कोयलें से कही ज्यादा अच्छी है. यूएसए से आने वाले कोयलें की खपत ईंट पकाते समय कम होती है जबकि भारतीय कोयलें की खपत ज्यादा है.

वहीं जीएसटी के बढ़ने की वजह से भी उन पर दोहरी मार पड़ी है. पहले भट्ठा मालिक कोयलें पर 5% जीएसटी देते थे , लेकिन अब उन्हें 12% जीएसटी देनी पड़ रही है. पहले कंपोजिशन स्कीम का भट्ठा मालिकों को 1% देना पड़ता था जो अब उनको 6% देना पड़ रहा है.

इसका सीधा असर आर्थिक तौर पर भट्ठा मालिकों को झेलना पड़ रहा है. ऐसे में भट्ठा मालिकों ने सरकार से कोयलें की बढ़ती कीमतों पर रोक लगाने की मांग की है. उनका कहना है कि अगर सरकार ने यूएसए से आने वाले कोयलें की कीमतों की बढ़ोतरी पर रोक लगाने में कामयाब हो जाती है तो ईंटों के दाम ज्यादा नहीं बढ़ेंगे. अगर यही हाल रहा तो ईंटों की कीमतों में दो गुना इजाफा देखने को मिल सकता है.

Related posts

Designing The Future: Pineapple House Design

kharikharinews

मिठाई की दुकान पर सीएम फ्लाइंग ने की रेड, मिल्क पाऊडर के सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे लैब

kharikharinews

महिला ने एक साथ दिया तीन बच्चों को जन्म, दो लड़के और एक लड़की सहित मां भी सुरक्षित

kharikharinews

Leave a Comment